• July 11, 2020

डेढ़ साल बाद कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने बनाई अपनी टीम, उसमें भी ऐसे नेताओं को पदाधिकारी बना दिया जो पार्टी में ही नहीं, ये खुद बाेले- हम ताे सिंधिया के साथ

पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थन में गोहद और मेहगांव के विधायकों के इस्तीफा देने और कांग्रेस छोड़कर भाजपा में जाने के बाद इन सीटों पर उपचुनाव की तैयारी में भाजपा और कांग्रेस पूरी ताकत झोंक रही है। लेकिन इस बीच कांग्रेस में अंतर्कलह थमने का नाम नहीं रहा है। कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीच सामंजस्य ही नहीं है। कांग्रेस जिलाध्यक्ष बनने के डेढ़ साल बाद जयश्रीराम बघेल ने भारी भरकम नेताओं को पद देकर कार्यकारिणाी का गठन किया। लेकिन इसमें भी वे चूक कर गए। उन्होंने दो ऐसे नेताओं (जसवीर सिंह जस्सा और सरदार कुलवंत सिंह) को पदाधिकारी बना दिया जो पार्टी में ही नहीं हैं।
इन नेताओं ने ही कार्यकारिणी में पद मिलने के बाद आपत्ति जताते हुए जिलाध्यक्ष से पूछ लिया कि आपने पद देने से पहले कुछ पूछा भी नहीं। ये ताे पता कर लिया कराे कि जिन्हें पद दे रहो, वो पार्टी में हैं भी या नहीं। इन दोनाें नेताओं ने जिलाध्यक्ष से कह दिया कि वो पार्टी में नहीं हैं, वाे ताे सिंधिया के साथ चले गए हैं। इस वाकया के बाद जिलाध्यक्ष ने इन दोनों नेताओं को निष्कासित करने के लिए प्रदेश संगठन को चिट्‌ठी लिखी है। इस चूक का नतीजा यह हुआ कि मंगलवार को गोहद की बैठक में कांग्रेस के वे नेता भड़क गए जो सालों से पद के इंतजार में थे। कांग्रेस नेताओं ने जिलाध्यक्ष पर फर्जी नियुक्तियां करने का आरोप लगा दिया। बाद में जिलाध्यक्ष ने इन्हें बड़ी मुश्किल से शांत कराया। खास बात तो यह पूरा वाक्या बैठक लेने पहुंचे कांग्रेस के भिंड प्रभारी सुधांशु त्रिपाठी और संगठन प्रभारी अजय चोरे सहित अन्य कांग्रेस के नेताओं के सामने घटित हुआ।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Please follow and like us:

Related post

Coronavirus Live Update

COVID-19