• July 6, 2020

शहरी स्थानीय निकाय ने दी स्पेशल अप्रूवल, मेंटीनेंस के लिए नई लाइट की पहचान हो सके इसलिए 5 रंगों में होंगी स्ट्रीट लाइटें

शहर में 9 हजार स्ट्रीट लाइट लगाने का रास्ता साफ हो गया है। शहरी विधायक प्रमोद विज ने मंगलवार को शहरी स्थानीय निकाय (यूएलबी) ने स्पेशल अप्रूवल लिया। 42 बाजार प्रधानों के विरोध के पांच दिन बाद बाद विधायक मंगलवार को चंडीगढ़ पहुंचे और सरकार ने अनुमति ले ली। हालांकि, यूएलबी ने यह शर्त लगा दी है कि अगर इस बार कोई बोली लगाने वाला सामने नहीं आता है तो फिर मुख्यालय की ओर से तैयार हो रही स्ट्रीट लाइट संबंधी रिपोर्ट फाइनल होने के बाद ही टेंडर लगाए जा सकेंगे।इधर, अनुमति मिलते ही नगर निगम ने मंगलवार को ही 26 वार्डों में करीब 350-350 स्ट्रीट लाइट लगाने के लिए 35-35 लाख के पांच टेंडर निकाल दिए। यह टेंडर 14 जुलाई को ओपन होंगे। किसी न किसी कारण से पिछले एक साल से शहर में नई स्ट्रीट लाइट लगाने का टेंडर जारी नहीं हाे रहा है।1.75 करोड़ की स्ट्रीट लाइट खरीदने के लिए टेंडर जारीनगर निगम 1.75 करोड़ रुपए की करीब 9000 एलईडी स्ट्रीट लाइट खरीदने के लिए इससे पहले भी टेंडर निकाले थे। जो 16 जून को खुलने वाले थे कि 10 जून को यूएलबी के महानिदेशक ने स्ट्रीट लाइट की खरीद पर रोक लगा दी। साथ ही यह भी निर्देश दिया था कि अगर कहीं टेंडर प्रक्रिया शुरू हो चुकी है तो उसे तुरंत रद करें। इसके बाद टेंडर नहीं हो सका।क्यों लगाई शर्त: 10 साल के मेंटीनेंस का नियमप्रदेश स्तर पर स्ट्रीट लाइट संबंधी नियम बन रहे हैं। जिसके तहत 10 साल के लिए ऑपरेशन और मेंटीनेंस की जिम्मेदारी ठेकेदार को दी जाएगी। इसके लिए सेंट्रलाइज्ड कंट्रोल एंड मॉनिटरिंग सिस्टम बनाया रहे हैं। इसी के कारण पानीपत में स्ट्रीट लाइट के लिए टेंडर जारी करने पर रोक थी, लेकिन स्थिति खराब होने के कारण विधायक ने विशेष रूप से अनुमति ली है।नई लाइटें गारंटी के तहत ही बदली जाएंगीविधायक ने बताया कि मेंटीनेंस में बड़ी दिक्कत आती है। पहले तो नई लाइट की गारंटी होती है। इसलिए, नई लाइट गारंटी के तहत बदली जाएगी। दूसरी जो पुरानी लाइटें है, उसकी मरम्मत की जिम्मेदारी तय की जाएगी। विधायक ने कहा कि इसलिए, अलग-अलग कलर के बक्सों वाली स्ट्रीट लाइट अलग-अलग एरिया में लगाई जाएगी। ताकि इसकी सहज पहचान हो सके।स्ट्रीट लाइट घोटाले में 4 एक्सईएन पर गाज गिर सकती हैतीन साल पहले शहर में लगाई गई करीब 3 करोड़ की स्ट्रीट लाइट में घोटाले की जांच रिपोर्ट जल्द आने वाली है। शहरी स्थानीय निकाय निदेशालय (यूएलबी) के सीनियर टाउन प्लानर आरके वर्शनी ने कहा कि रिपोर्ट तैयार हो रही। इस मामले में तत्कालीन समय के 4 एक्सईएन पर गाज गिर सकती है। पार्षद दुष्यंत भट्‌ट की अध्यक्षता वाली कमेटी ने भ्रष्टाचार का खुलासा किया था। इसके बाद शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज ने जांच का आदेश दिया था। इस बारे में मंत्री अनिल विज ने कहा-मैं तो रिपोर्ट के इंतजार में हूं। रिपोर्ट मिलते ही इसमें शामिल अफसरों को टांग दूंगा। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Please follow and like us:

Related post

Coronavirus Live Update

COVID-19