Categories
Ayurveda Health

केले के फूल का घरेलू और आयुर्वेदिक उपयोग

जैसा की हम सब जानते हैं की केले के पेड़ का हमारे जिंदगी में कितना महत्व है. हम केले का फल का कच्चे और पक्के रूप में उपयोग करते हैं। केले में बहुत सारी खूबियां होती हैं जिसकी वजह से हर उम्र के लोगो के लिए फायदेमंद है। आज हम आपको केले का एक नया उपयोग बताएँगे।

कई बार खेलते समय बच्चो और बड़ो को चोट लग जाया करती है। ज्यादातर बच्चो को खेलते समय कई बार अंदुरनी चोट लग जाती है। इसमें से सबसे दर्दनाक होता है अंडकोष पर चोट लगना जोकि ज्यादातर क्रिकेट या बॉल से जुड़े हुए खेल में होता है। कई बार चोट लगी जगह पर सूजन आ जाती है और बच्चे घर में ये बात नहीं बताते. बड़े भी कई बार इस तरह के चोट को नार्मल लेते है और कोई इलाज नहीं करते। ऐसे समय में इस घरेलु और आयुर्वेदिक उपचार का प्रयोग कर सकते हैं। इस प्रयोग का कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं है और आपको बहुत जल्दी फायदा होता है। इसमें केले के फूल का प्रयोग किया जाता है। केले का फूल आपको बहुत आसानी से मिल जायेगा. आपके आस पास जहाँ भी लगा हो उसमे से केले के फूल का एक परत निकल कर ले आइये।

उपयोग में लाने का तरीका
1. पहले केले के फूल की एक परत लें
2. उसके बाद उसे धीमी आंच पर हल्का सेक लें
3. ध्यान रखें की सेंकते समय जैसे ही फूल की परत में नमी आ जाएं उसे हटा लें
फिर उस पर हल्का गुनगुना देसी घी लगा लें
4. अब इस फूल को चोट वाली जगह पर लगाकर बांध लें
5. 3-4 घंटे में आपकी चोट पर सूजन बिलकुल कम हो जायेगा
6. जरुरत पड़े तो एक और फूल की परत का प्रयोग दुबारा करें

ज्यादातर समय ये एक बार में ही ठीक कर देता है।
नोट: ध्यान रहे की खुली चोट पर इसे प्रयोग न करें

और किसी जानकारी के लिए आप संपर्क कर सकते हैं।